Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

मस्त सेक्सी आंटी -1


Click to Download this video!

indian aunty sex stories हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विक्की है और में वर्धा का रहने वाला हूँ। आज में आप सभी कामुकता डॉट कॉम के चाहने वालों को अपनी एक सच्ची कहानी, मेरा सेक्स अनुभव सुनाने आया हूँ और में उम्मीद करता हूँ कि यह आप लोगों को जरुर पसंद आएगी। दोस्तों यह बात उन दिनों की है, जब में 19 साल का था और में उस समय एक कॉलेज में पढ़ता था और उन दिनों मेरा लंड किसी भी छोटी छोटी बात पर बहुत ज्यादा उठता था और इसलिए में तब किसी ना किसी को चोदने के विचार अपने मन में बनाता रहता था। फिर उस समय मेरे पड़ोस में एक मस्त सेक्सी आंटी रहती थी, जिसका नाम सरला था और उसकी सुन्दरता उसके गोरे गदराए बदन से हमेशा झलकती थी और वो दिखने में ऐसी लगती कि मानो कि सेक्स की देवी आपके सामने खड़ी हो। दोस्तों उसको देखकर मुझे हर दम लगता था कि वो ही है जो मेरी सेक्स की प्यास को बुझा सकती है और इसलिए में हमेशा उसकी मेरे साथ चुदाई के सपने देखा करता था। दोस्तों वो भी अपने मन में मेरे साथ कुछ ऐसा ही करने की इच्छा रखती थी, क्योंकि वो हमेशा मुझसे हंस हंसकर बातें किया करती और कभी गलती से मेरा हाथ उनको छू जाता, लेकिन वो मुझसे कुछ ना कहती। फिर में उसके बूब्स को घूर घूरकर देखा करता और तब भी वो मुझसे कुछ नहीं कहती वो बस मेरी तरफ हमेशा मुस्कुरा देती।

दोस्तों माफ करना में आपको बताना भूल गया कि उनकी एक लड़की भी है, वो भी दिखने में अपनी माँ की तरह मस्त हॉट माल लगती है, लेकिन वो उम्र में थोड़ी छोटी जरुर है फिर भी बड़ी कामुक लगती है। दोस्तों वो दोनों माँ बेटी ही घर में अकेली ही रहती थी और अब आप सोच रहे होंगे कि उन आंटी के पति कहाँ गये? क्योंकि वो एक ट्रक ड्राइवर है इसलिए वो महीने महीने भर अपने घर पर नहीं आते है और हाँ अब में आप लोगो को उनके घर के बारे में भी बता देता हूँ। उनका घर बिल्कुल मेरे घर के पास वाला है और मेरे कमरे को ही लगकर उनका बाथरूम है जो कच्ची ईटो का है और वो उनके घर के बिल्कुल पीछे वाले हिस्से में बना हुआ है। वो दोपहर का समय था में अपने बेड पर लेटा हुआ था और तभी वो आंटी शक्कर मांगने के लिए हमारे घर पर आ गई और उस समय मेरे घर पर कोई ना होने की वजह से वो सीधे मेरे कमरे में आकर मेरे बेड पर बैठ गई और फिर वो मेरे सर के बालों के ऊपर अपना एक हाथ घुमाने लगी। फिर मैंने अपनी आँखों को खोलकर देखा कि उनकी गांड मेरे मुहं के ठीक सामने थी और मैंने भी सही मौका देखकर धीरे से उनकी गांड को चूम लिया और उन्हे इस बात का पता भी नहीं चला।

फिर मैंने कुछ देर बाद बिस्तर से उठकर रसोई से लाकर उन्हे शक्कर दी, तब उन्होंने मेरे गाल पर चुम्मा करके मुझसे धन्यवाद कहा और फिर वो मुझे अपनी सेक्सी अदाए दिखाती हुई मुझे अपनी तरफ आकर्षित करती हुई अपने घर पर चली गई। अब मेरे लंड ने भी अंदर ही अंदर उनकी चूत को सलामी दी और फिर मुझे उसकी तरफ आगे बढ़ने और उसकी चुदाई करने का कुछ ज्यादा ही मन करने लगा था और अब इस बात को मैंने अपने मन में ठान लिया था कि अब मुझे कैसे भी करके मुझे अपनी आंटी की चुदाई करके अपने लंड को शांत करना है। फिर उसी रात को मैंने एक विचार बनाया और दूसरे दिन उस विचार के हिसाब से मैंने उसके बाथरूम की एक ईट को थोड़ा सा बाहर निकालकर उस जगह मेरे अंदर झांककर देखने के लिए एक छोटा सा छेद बना लिया था। फिर जैसे ही वो नहाने के लिए अपने उस बाथरूम के अंदर गई तो मैंने भी सही मौका पाकर अपनी आँखों को उस छेद पर लगा दिया। अब वो अंदर आकर नहाने के लिए धीरे धीरे अपने एक एक कपड़े उतार रही थी और फिर मैंने देखा कि कुछ देर बाद वो मेरे सामने बाथरूम में ब्रा और पेंटी में खड़ी थी। दोस्तों में उसके वो ब्रा से बाहर निकलते हुए बड़े आकार के गोरे बूब्स को देखकर बड़ा चकित था।

फिर बूब्स को देखकर मेरा तो लंड तुरंत तनकर खड़ा हो गया और उसके बाद जो कुछ हुआ उसको तो देखकर में बिल्कुल ही दंग रह गया। अब उसने अपनी ब्रा को खोलकर वो अपने दोनों हाथों से अपने दोनों बूब्स को दबाने लगी और आहे भरने लगी उसके मुहं से आहह उउउहह सिसकियों की आवाज आने लगी और फिर कुछ देर बाद उसने अपनी पेंटी को भी निकाल फेंका। दोस्तों में आप सभी को किसी भी शब्दों में नहीं बता सकता कि उस सेक्सी मनमोहक द्रश्य को देखकर मेरा हाल क्या हो रहा था? आप मान लो कि किसी भूके शेर को अपना शिकार दिख गया हो, लेकिन वो उस समय किसी पिंजरे में बंद हो उसको खा ना सके, ठीक मेरी हालत भी ऐसी ही हो रही थी और उससे भी ज्यादा हालत मेरे लंड की खराब हो रही थी। फिर उसने मेरे देखते ही देखते अपने एक हाथ की दो उँगलियों को अपनी चूत में डाल दिया और वो अब धीरे धीरे अपनी उँगलियों को अंदर बाहर करने लगी और वो अपने एक हाथ से अपने बूब्स को भी दबा रही थी। फिर उस सेक्सी द्रश्य और उसकी हालत को देखकर मुझे ऐसा लगा कि शायद उसने भी बहुत दिनों से सेक्स नहीं किया था, शायद इसलिए वो अपनी चूत में ऊँगली डालकर अपनी चूत को कुछ आराम दे रही थी।

अब मैंने मन ही मन में सोच लिया था कि आंटी की में उस काम में मदद ज़रूर करूँगा और में उसकी चूत की खुलजी को अपने लंड से जरुर मिटा दूंगा और में यह बात सोचकर बहुत खुश था। फिर उस दिन रात को बहुत ज़ोर ज़ोर से बादल गरज रहे थे और बिजलियाँ भी चमक रही थी और कुछ देर बाद हल्की सी बारिश भी शुरू हो गई थी। फिर आंटी बिगड़ता हुआ डरावना मौसम देखकर बहुत डर गई और इसलिए उसने मुझे अपने घर पर सोने के लिए बुला लिया। अब में अंदर से बहुत खुश था और में अपने घर से अपने कुछ जरूरत के सामान लेकर आंटी के घर पर सोने चला गया, आंटी उस समय फिल्म देख रही थी और में भी उनके पास कुर्सी पर बैठकर फिल्म देखने लगा। फिर उस समय उनकी बेटी डरकर रोने लगी, आंटी ने उसको अपनी गोद में लेकर वो उसको सुलाने की कोशिश करने लगी और उस वजह से उनके बूब्स बाहर निकालकर झांकने लगे। अब में आंटी को अपनी खा जाने वाली नजर से घूर घूरकर देखता ही रह गया और जैसे ही उसने मेरी तरफ देखा में दोबारा फिल्म देखने का नाटक करने लगा। फिर थोड़ी देर के बाद उसने अपने बेटी को लेटा दिया और उन्होंने एक गोली खा ली, मैंने जब उससे पूछा कि यह गोली आपने क्यों खाई? उन्होंने कहा कि यह नींद की गोली है इसके बिना मुझे नींद नहीं आती और अब वो अपनी बेटी के साथ पलंग पर लेट गई और में सोफे पर लेट गया।

फिर कुछ देर के बाद मैंने देखा कि वो अब गहरी नींद में सो रही थी, लेकिन मुझे अब भी नींद नहीं आ रही थी, मेरी आँखों के सामने तो वो बाथरूम वाली घटना ही बार बार घूम रही थी। फिर में थोड़ी सी हिम्मत करके उसके पास में जाकर बैठ गया और बड़ी हिम्मत से मैंने उसके ब्लाउज के ऊपर से उसके बूब्स को सहला दिया, लेकिन उसकी तरफ से कोई भी हलचल नहीं हुई। अब उस वजह से में बिल्कुल निडर हो गया और धीरे से में उसकी नाभि को चूमने लगा और अपने एक हाथ से में उसकी साड़ी को ऊपर करके उसकी गोरी भरी हुई जांघो को सहलाने लगा, उन पर अपना हाथ घुमाने लगा और चूमने भी लगा। फिर मैंने कुछ देर बाद सही मौका देखकर अपना एक हाथ उसकी पेंटी में डाल दिया और अब में उसकी चूत की गरमी को महसूस करने लगा, लेकिन तब भी उसकी तरफ से कोई भी हलचल नहीं हुई। अब मैंने उसकी पेंटी को नीचे कर दिया, जिसकी वजह से दोस्तों अब मेरे सामने वो उभरी हुई प्यासी चूत थी जो आज सुबह में दो फुट की दूरी से देख रहा था। अब उसको देखकर में अपने होश खो बैठा में तुरंत नीचे झुककर उसकी रसभरी चूत को चाटने लगा।

दोस्तों तब मैंने महसूस किया कि उसका स्वाद बड़ा ही मस्त कमाल का था और फिर मैंने कुछ देर अपनी जीभ को घुमाने के बाद अब अपनी दो उँगलियों को उसकी चूत में डाल दिया और में धीरे धीरे उनको अंदर बाहर करने लगा। फिर उसी के साथ में अपने एक हाथ से उसके ब्लाउज के बटन को खोलकर उसके बूब्स को भी दबाने लगा, करीब दस मिनट तक हमारे बीच यह सब ऐसे ही चलता रहा। तभी मुझे ऐसा लगा कि वो अब जागने वाली है और में तुरंत सोफे पर जाकर लेट गया और ना जाने कब मुझे नींद भी आ गई। फिर जब दूसरे दिन सुबह में उठा तब उसने मेरे बालों पर अपने एक हाथ को घुमाकर मुझे एक हल्की सी मुस्कान दी, लेकिन में समझ नहीं सका कि इसका क्या मतलब था? और में अपने घर पर आकर सोचने लगा कि शायद उसको यह बात पता तो नहीं चल गई कि कल रात को में उसके साथ सेक्स करना चाह रहा था? और उसकी वो सेक्सी मुस्कान इस बात की गवाही दे रही थी कि वो भी मुझसे अब अपनी चुदाई करवाना चाहती है। अब इस वजह से मेरी हिम्मत और ज्यादा बढ़ गई और फिर मैंने मन ही मन सोच लिया था कि आज रात को में जरुर उसकी जमकर अच्छी तरह से चुदाई करूँगा, उसकी और मेरी हम दोनों की प्यास को में बुझा दूंगा।

अब तो में सिर्फ़ बड़ी बेसब्री से रात होने का इंतजार कर रहा था, क्योंकि मुझे अब अपने लंड को कैसी भी शांत करना था। फिर हर रोज की तरह में आज भी आंटी के घर में सोने चला गया, वो उस समय भी टीवी देख रही थी और में भी उसके पास में बैठकर टीवी देखने लगा और उसकी बेटी उस समय पहले से ही सो रही थी। फिर करीब रात के 11 बज रहे थे और अब बाहर बारिश भी ज्यादा ज़ोर से शुरू हो गई थी। तभी अचानक से एक बिजली चमकी और वो उस जोरदार आवाज की वजह से डरकर मुझसे लिपट गई और तब मैंने उसके बड़े आकार के बूब्स को अपनी छाती पर महसूस किया। अब वो बूब्स तेज चलती सांसो की वजह से ऊपर नीचे हो रहे थे और में उनके मज़े ले रहा था। फिर वो मेरी तरफ हंसती मुस्कुराती हुई मुझसे दूर हट गई और हम वापस टीवी देखने लगे। फिर उसने मुझसे पूछा क्यों विक्की कल रात को मेरे ब्लाउज के बटन तुमने ही खोले थे ना? अब मैंने कहा कि हाँ आंटी मैंने ही आपके ब्लाउज को खोलकर आपके बूब्स को दबाए भी थे और में यह बात भी बहुत अच्छी तरह से जानता हूँ कि आप भी सेक्स की बहुत भूखी हो।

Best Hindi sex stories © 2017
error:

Online porn video at mobile phone


bahan ki chuchiangul sexbeti ki mast chudaichutiya storysex vartacollege sex hindichacha ne mummy ko chodabhai ne chodachoot ka pakodadard bhari chudai kahanimami sex story in hindikahani sex videodesi family chudai storiesbest desi xxxuncle aunty ki chudai dekhibf sex storymere bap ne chodabhabhi ne chutchudai kaise hoti hmummy sexy storychut ki kahani in hindichudai ki mausi kiantarvasnasexstoriespahla sexbaap beti ki chudai kahani hindisexy chudai downloaddesi chudai hindi kahanistory of sex hindibehan ki chudai story hindibur and chutbahan ki chut dekhihindisexystoriesmadam ki chuchisali chudai hindibhai ne bhain ko chodatop sex storiesaunty ko kutte ne chodasex kahani for hindibadi gaand wali auratchudai kahani sexchudai biharnashili bhabhimeri chootgirlfriend ki chudaichut or chudaibete ne maa ko choda hindi sex storykuwari desi chutsexy romantic kahaniyabhabhi ki chut hindi kahanidesi sex stories with imageschudai audio kahanibaap ne beti ko jabardasti chodapriya ki chootmama mami chudaichut me lund ka photohindi sex latestnice chudaisabse gandi chudaiwww hindi kahanidesi bhabhi sex storybhabhi aur devar chudainew hindi sexi storyxxxx hindi kahanikhet xxxindian school girl sex storiessex hot story hindidesi chudai latestsuhagrat sexy imagesuhagrat suhagrathindi sexy story pdfhindi kahani suhagratpure hindi sexy storychudai gfxxx hindi comedidi chuditailor ne chodahindi mai chudai storysexy story with photo in hindihindi sexi khaniyafree gay indian storieshindi sex story book downloaddost ki biwi ko choda videodadaji ne maa ko chodaantarwasna hindi khaniyamadarchod betachudai kahani pakistanichut ke andarchudai story baap betilatest story chudaisavita bhabhi free stories in hindividhava ammahindi aex storiesdiwali xxxrandi ki chut phadiaunty hot chudaijangal sex hindibehan ki saas ko chodaaurat ko choda