Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

एक रियल सेक्स एनकाउंटर-1


desi porn kahani हैल्लो दोस्तों, में काफ़ी दिनों से सेक्सी स्टोरी पढ़ रहा हूँ और इन्जॉय कर रहा हूँ। अब में आपको पहले अपने बारे बता देता हूँ। मेरा नाम राजा है, मेरी उम्र 27 साल है, मेरी हाईट 5 फुट 8 इंच है। यह बात उन दिनों की है, जब मेरी उम्र 18 साल थी। में अभी एक प्राइवेट जॉब में एक अच्छी पोस्ट पर हूँ। अब में आपको मेरे एक रियल सेक्स एनकाउंटर के बारे में बताने जा रहा हूँ। ये उन दिनों की बात है, जब मैंने प्राइवेट जॉब जॉइन किया ही था। अब प्राइवेट जॉब होने की वजह से मुझे किराए के हाउस में रहना पड़ा था, वो हाउसिंग बोर्ड के हाउस थे। अपनी पोस्ट के स्टेटस के हिसाब से मुझे पूरा हाउस किराए पर लेना पड़ा था। अब ऑफिस से मुझे एक सर्वेंट मिल गया था, जो दोनों टाईम का खाना बनाता और घर की सफाई करता था।

यह बात राजस्थान के भीलवाडा डिस्ट्रिक्ट हेडक्वॉर्टर की है। मेरे घर के पड़ोस में एक गुप्ता फेमिली रहती थी। उनका रेस्टोरेंट का बिजनेस था इसलिए अंकल और आंटी दोनों ज़्यादातर रेस्टोरेंट पर ही रहते थे, वो कुल मिलाकर अच्छी फेमिली थी, उनके 2 बेटियाँ और 1 बेटा सोनू था। उनकी बड़ी बेटी का नाम सुनीता, उम्र 18 साल और छोटी बेटी की उम्र 16 साल और उनके लड़के की उम्र 12 साल थी। सुनीता की बॉडी बहुत सेक्सी थी, हाईट 5 फुट 6 इंच, कलर वेरी फेयर, बूब्स और कुल्हें बहुत अच्छे शेप में थे। अब हाउस में रहने के 15 दिनों में ही वो मुझे खटकने लग गई थी। शाम के टाईम में जब वो भाई-बहन और पास के बच्चों के साथ खेलती थी, तो वो स्कर्ट और शर्ट पहनकर खेलती थी। में शाम को छत पर बैठकर उसको देखता था, उसके बूब्स और कूल्हों का मूव्मेंट देखकर मेरा 6 इंच का लंड खड़ा हो जाता था। जिसे में रात को शांत करता था। तब तक में वहाँ रहने के लिए मेंटली सेट हो गया था।

अब मुझे मौके का इन्तजार था। खैर फिर जल्दी ही मुझे मौका मिल गया। हमारे हाउस के पास एक मंदिर में भंडारा था। अब मुझे भी इन्विटेशन था। अब रात को प्रसाद वितरण के बाद लंगर का प्रोग्राम था, क्योंकि भंडारे में लंगर का भी प्रोग्राम था इसलिए प्रसाद लेने के लिए भीड़ बहुत ज़्यादा थी। अब मेरी किस्मत अच्छी थी कि सुनीता लाईन में मेरे आगे ही खड़ी थी। अब में तो फिराक में था कि किसी तरह उसकी बॉडी को मेरी बॉडी टच कर जाए। तभी भीड़ बढ़ गई और किसी ने पीछे से धक्का दिया। तो धक्के की वजह से में आगे की तरफ आ गया और सुनीता की पीठ मेरी छाती से टकराने लगी थी। अब आप समझ गये होंगे कि क्या हुआ होगा? अब मेरा लंड उसके कूल्हों के पीछे टकराने लगा था, आप मज़े की बात देखिए उसने बिल्कुल विरोध नहीं किया था और अपने कूल्हों को पीछे की तरफ कर लिया था। फिर हम करीब 1 मिनट तक इसी पोज़िशन में खड़े रहे। अब मेरा लंड तनकर रोड की तरह टाईट हो गया था। फिर उत्तेजना में मैंने पीछे से एक धक्का दिया। तब भी वो कुछ नहीं बोली, बल्कि वो आगे की तरफ झुक गई थी, जिसके कारण अब में उसके कूल्हों के बीच की दरार को एकदम साफ महसूस कर रहा था। फिर मैंने उसके चेहरे को देखा जो कि उत्तेजना की वजह से एकदम लाल हो रहा था। अब में समझ गया था कि वो एक चालू लड़की थी, जिसने अभी तक लंड का स्वाद नहीं लिया था, लेकिन वो मेरा लंड लेने के लिए पूरी तरह से तैयार थी। खैर उस घटना के बाद में जब भी उसे देखता, तो वो अपनी नजरे नीची करके मुस्कुरा देती थी। अब में समझ गया था कि लाईन क्लियर है, लेकिन ऐसा कोई चान्स नहीं मिल रहा था कि में उसे चोद सकूँ, खुदा सबकी सुनता है। अब इस बीच मेरे उनकी फेमिली से अच्छे रिलेशन हो गये थे।

फिर एक दिन गुप्ता अंकल ने मुझसे सुनीता को कोचिंग पढ़ाने के कहा, यह मेरे लिए अच्छा मौका था। तब मैंने कहा कि क्यों नहीं? मेरा भी टाईम पास हो जाया करेगा, क्योंकि ऑफिस से आने के बाद में भी बोर हो जाता हूँ। अब मैंने सुनीता को कोचिंग देना शुरू कर दिया था, लेकिन 1 हफ्ते के बाद भी में उसे सभी के लिए तैयार करने के लिए साहस नहीं उठा पाया, जो मुझे चाहिए था। फिर एक दिन जब रविवार था और उसके मम्मी, पापा रेस्टोरेंट गये हुए थे और उसके भाई बहन भी उनके साथ चले गये थे। फिर दोपहर में सुनीता मेरे घर आई और बोली कि उसे गणित में कुछ समस्या आ रही है इसलिए अगर में उसको वो एक्सरसाईज पढ़ा सकूँ। तब मैंने कहा कि हाँ-हाँ क्यों नहीं? में भी अकेला बैठा बोर हो रहा हूँ।

फिर में सुनीता के घर चला गया। फिर वो चाय बनाकर ले आई। तो तब मैंने उससे पूछा कि अंकल, आंटी नहीं दिख रहे? तो तब उसने कहा कि आज रेस्टोरेंट की छुट्टी है इसलिए वो हमारे रिलेशन में गये हुए है। घर पर कोई नहीं है और में अकेली हूँ, वो लोग शाम को 9 बजे तक वापस आएँगे। उसने अकेली शब्द पर ज़ोर देकर कहा था। अब में समझ गया था कि इससे अच्छा मौका राजा तुझे नहीं मिलेगा। अब में उसे गणित की एक्सरसाईज पढ़ाने लगा था, लेकिन मेरी आँखें बार-बार उसके बूब्स पर अटक जाती थी। अब जब वो लिख रही थी तो तब मैंने गौर से देखा, तो उसने शर्ट के नीचे ब्रा नहीं पहन रखी थी, जबकि जब वो मेरे घर आई थी तो जहाँ तक मुझे ध्यान था उसने ब्रा पहन रखी थी। फिर मैंने इमेजिन किया कि उसने चड्डी भी उतार दी होगी। अब यह विचार मन में आते ही मेरा लंड एकदम टाईट हो गया था और मेरा पजामा फूल गया था, जिसे शायद उसने अपनी आँखों से देख लिया था। अब वो लिखते-लिखते मुस्कुरा रही थी। अब इस समय दोपहर के 12 बज रहे थे। फिर मैंने टाईम वेस्ट करना ठीक नहीं समझा, आज में किसी भी तरीके से उसको चोदने के मूड में था।

फिर आख़िर मैंने उससे पूछा कि सुनीता एक बात बताओ? उस दिन जब मंदिर में में तुम्हारे पीछे खड़ा था, तो तुम्हें बुरा तो नहीं लगा ना? तो तब वो बोली कि क्यों? क्या हुआ था? तो तब मैंने कहा कि उस दिन मेरी हालत बहुत खराब हो गई थी। तब सुनीता फिर से बोली कि क्यों? ऐसा क्या हो गया था? तो तब मैंने कहा कि सच बताना तुम्हें प्यारा लगा? तो तब वो चुप रही। तब मैंने फिर से कहा कि उस दिन तुम्हारी बॉडी को टच करके में बहुत उत्तेजित हो गया था, तुम सच बताना क्या तुम्हें प्यारा लगा था? तो इस बार वो गर्दन नीचे करके मुस्कुरा दी और कुछ नहीं बोली। तब मैंने कहा कि सुनीता तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो, आई लव यू। तब मुझे उसका रेस्पॉन्स मिला आई लव यू टू। तो यह सुनते ही मैंने उसके हाथों को अपने हाथों में ले लिया और उसकी आँखों में देखने लगा था। अब उसका चेहरा शर्म से लाल हो गया था।

फिर मैंने धीरे से उसके गोरे-गोरे गालों को चूम लिया, तो तब मुझे वो तैयार दिखी। फिर मैंने उसके रसीले होंठो पर अपने होंठ रख दिए और फिर में काफ़ी देर तक उसके होंठो को चूसता रहा। अब सुनीता बहुत ज़्यादा उत्तेजित हो गई थी और अब वो भी मेरे होंठो को चूस रही थी। अब उसकी साँसें बहुत भारी हो रही थी। फिर बिना वक़्त खोए मैंने उसके एक बूब्स को दबा दिया, लेकिन उसका ध्यान किसिंग की तरफ ही था। फिर किस करते-करते मैंने उसकी शर्ट के बटन खोलने शुरू कर दिए। अब मेरे सर्प्राइज के हिसाब से उसने नीचे ब्रा नहीं पहनी थी तो उसको किस से हटाकर मैंने उसके दोनों बूब्स अपने हाथ में ले लिए और उससे कहा कि मैंने इतने खूबसूरत बूब्स आज तक नहीं देखे, सुनीता तुम शानदार हो और यह कहकर मैंने उसके दोनों बूब्स को मसलना चालू कर दिया। तभी सुनीता बोली कि अरे दरवाजे की कुण्डी तो लगी ही नहीं है, में दरवाजा बंद करके आती हूँ और फिर वो अपनी शर्ट के बटन बंद करके वो दरवाजा बंद करने चली गई।

अब में जाते हुए उसके गोल-गोल नितंबों को देख रहा था। मैंने नहीं सोचा था कि वो इतनी आसानी से फंस जाएगी। फिर वो वापस आकर बोली कि चलो अंदर वाले रूम में चलते है। फिर अंदर वाले रूम में आते ही मैंने उसे खड़े-खड़े ही पकड़ लिया और फिर उसके होंठो पर अपने होंठ रख दिए और पीछे से उसकी स्कर्ट को ऊपर उठाकर उसके गोल-गोल चूतडों पर अपना एक हाथ फैरने लगा था। अब मेरे सर्प्राइज के हिसाब से उसने नीचे चड्डी नहीं पहन रखी थी। अब में समझ गया था कि आज वो मुझे भरपूर मज़ा देगी। फिर में उसके चूतडों की गोलाई पर अपना हाथ फैरने लगा और उन्हें दबा-दबाकर सुनीता को अपनी तरफ खींचने लगा था। अब में आज उसे अपने से चिपकाकर उसके बदन में समा जाना चाहता था। फिर मैंने उसे बेड पर पटक दिया और पागलों की तरह उसे चूमने लगा था और उसके बूब्स को ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगा था। तब वो बोली कि जरा धीरे-धीरे दबाओ, मुझे दर्द होता है।

Best Hindi sex stories © 2017
error:

Online porn video at mobile phone


muslim sex story in hindidesimurga storieshindi jabardasti sexjija sali chudai compapa ki sexy storykamasutra book in hindi with imageshot desi seximeri bhabhi ki chudai storybalatkar chudai ki kahaniyarap chudaijaya ko chodasali storymusi ke chudaikamwali ki chutlambi chudaibete ne beti ko chodakamsutra mantra imagessex aunty boychut marne ki kahanibest hot sexreal chudai kahanihot sex in hindijija sali sex comgirlfriend boyfriend sexhindi anal sex storiesdesi incest kahanipark me chudaikam wali bainokar ne gand marihindi font sexstorysex ki aaghot sexy bhabhi fuckmumbai bhabisex story bhabhi devarhindi teacher ki chudaihindi sexy bhabhihindy sexybhai ne bhai ki gand marimastram ki khaniyaaunty chudai hindikamukta indian hindi storiesjija sali hindi storypapa ne chudai kiradhika ki chudaimeri beti ki chutgoa ka sexteacher ko school me chodamausi ki chudai videotantrik ne mujhe chodamaa ka gangbangpriyanka ki chuchihot indian chudai storiesbhabi gandbhabhi ki chudai story hindibest desi sexwww hindi hot sexchachi ki chudai hindi sex storysex book story hindirandi ki chudai ki kahanihot iss storiesmummy ko choda sex storyais ki chutsachi sexy kahaniyasax chudaidesi bahanmaa beta chut chudaibest chudai kahanichodai ki kahaanimaa ki chudai sex story in hindiexbii sex storiesanjane me chudai ki kahaniantervasn com