Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

बस के स्लीपर कोच में-1


bhabhi sex stories दोस्तों में आप सभी के सामने अपनी एक पड़ोस की भाभी की चुदाई की कहानी बता रहा हूँ जिसे चोदने की मेरी इच्छा बचपन से थी जो कि अब फरवरी के महीने में पूरी हुई। दोस्तों मेरी भाभी इतनी सुंदर तो नहीं है कि जो भी उसे देखे उसका लंड भाभी को चोदने के लिए खड़ा हो जाए, लेकिन पता नहीं क्यों फिर भी में उसे हमेशा से ही चोदना चाहता था। पहले तो वो दुबली पतली सी थी और उसकी वो छोटी छोटी चूचियाँ मुझे बहुत अच्छी लगती थी, लेकिन अब वो समय के साथ साथ थोड़ी मोटी हो चुकी है और मोटे होने साथ साथ अब उसके चूतड़, बूब्स ने भी अपना आकार बदल लिया है जिसकी वजह से में उस जिस्म का बिल्कुल दीवाना हो चुका हूँ और अब उसका शरीर पहले से भी बहुत अच्छा दिखता है मतलब अब तो वो और भी चुदासी और सेक्सी लगती है।

अब उसकी चुचियाँ भी बहुत बड़ी हो गयी है बिल्कुल गोल गोल, लेकिन हाँ मोटी औरतों की झूलती हुई चूचियों की तरह नहीं बल्कि एकदम टाईट है। दोस्तों जैसा कि आप लोग सेक्सी कहानियों को पढ़कर सोचते होंगे कि भाभियों को अपनी बातों में फंसाकर चोदना बहुत आसान होता है, लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है अगर ऐसा होता तो में कब का अपनी भाभी को चोद देता और मुझे उनकी चूत मिलने में इतना लंबा समय नहीं लगता और मेरे मन की इच्छा बहुत पहले ही पूरी हो चुकी होती, लेकिन उसे चोदने का मौका मुझे इस बार मेरी अच्छी किस्मत से मिल ही गया और मैंने उसे एक बस के स्लीपर कोच में चोदा।

दोस्तों इस बार कुछ ऐसा हुआ कि बस में हमे एक बहुत लंबा सफर तय करना था और मेरी अच्छी किस्मत से मुझे बस में एक भी सीट खाली नहीं मिली तो हमें मजबूरी में एक स्लीपर लेना पड़ा जिसकी वजह से में तो मन ही मन बहुत खुश था, लेकिन भाभी अब थोड़ा अच्छा महसूस नहीं कर रही थी और में उनकी इस बैचेनी की वजह भी बहुत अच्छी तरह से समझ चुका था। मुझे पता था कि अब उनके मन में क्या क्या चल रहा होगा और वो क्या सोच रही है? अब हम दोनों अपना सामान ठीक जगह पर रखकर बस के स्लीपर पर अपनी सीट पर चढ़कर बैठ गये और मैंने स्लीपर का दरवाजा अंदर से बंद कर दिया और फिर में लेट गया, लेकिन भाभी अब भी बैठी हुई थी। फिर कुछ देर बाद बस चलने लगी और बाहर बहुत अंधेरा सा छा गया और अब में भाभी की पीठ पर अपना हाथ घुमा रहा था और मुझे ऐसा करने में बहुत मज़ा आ रहा था। मुझे अच्छी तरह से पता था कि मेरे ऐसा करने से भाभी गरम हो ही जाएगी, अब उससे पहले मेरा लंड उन्हें चोदने के लिए तैयार हो गया।

मैंने कुछ देर बाद भाभी को लेटने के लिए कहा लेकिन भाभी नहीं मानी, ना जाने उनके मन में क्या चल रहा था? और अब मैंने उसे तुरंत जबरदस्ती पकड़कर अपने ऊपर खींचकर अपने साथ लेटा लिया और इसी खींचातानी में उसकी साड़ी का पिन खुल गया, जिसको वो अब लगाने लगी।

Best Hindi sex stories © 2017
error:

Online porn video at mobile phone


pati ke samne biwi ki chudaichut aur gandsexy story commain chudibhabhi chudai story with photopron storydesy sexy storypoja saxgandi bateinjeeja sali sexchut chodne ki kahanimummy ki chudai story with photoaunty sex storiesindian iss storiescrossdressing hindi storyaunty with sexchut ki ladaiwife sharing sex storiessali ki chut ki kahanihindi sexi khaniyachut mari mami kichut land hindi mesexy kahani bhabhidesi nangi chudairajasthani aunty sexraat ki chudai kahanichut bur ki kahaninew aunty sex downloadchudai ki kahaani hindi merandi banayadadi ki chut photobiwi ki dost ko chodapati in hindinazia ki chootlong sex storieschudai bur mesalwar me gaandindian sexy chudai storieswww sex storenew story maa ki chudaiapni tution teacher ko chodahindi hot story hindichachi chudidesi mast chutmarwadi sexy movieantarvasna free hindi storybahan ki chudai hindi kahanijija sali ki mast chudaimms hindi sexbhosdi chodfree mastram ki hindi kahanisavita bhabhi ki gand marimaa bete ki chodaihindi sex photo storyteacher ki gand ki chudaichut ka milanhindi sex photosuhagraat ki chudai storychut land bfhindi font chudai storynaukar malkinhindi six khaniyasexy stoydevar bhabhi ki chudai kahani hindichut ki pilaibest chudai storygand ki chudai storybehan bhabhi ki chudaichudakkad bhabhipariwar chudaibolti kahani sexxxx gaandbabi banimaa aur beta ki chudai kahanihindi me chutantarvasana cochodne ka majagaand dekhodidi ki chudai ki kahanichudai ki story audioteacher sexxfriend ki girlfriend ki chudaimeena xossiprendi ko chodaanimation chudai