Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

भाभी के साथ-2


hindi sex kahani फिर भाभी ने मेरे कमरे में आकर मुझे उठने के लिए कहा, तब उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या मेरी तबीयत तो ठीक है? मैंने उनसे कहा कि हाँ एकदम ठीक है, तब वो मुझसे पूछने लगी कि फिर तुम इतना देर से क्यों उठे? मैंने उनसे कहा कि मुझे पता नहीं भाभी आज नींद मुझे कुछ ज्यादा ही आई। फिर उन्होंने कहा कि चलो अच्छा है कि तुम आराम से सोए और अब उन्होंने मुझसे कहा कि तुम जल्दी से अपने घर में जाकर नहाधोकर आ जाओ उसके बाद हम साथ में बैठकर नाश्ता करेगे। अब मैंने कहा कि हाँ ठीक है, उनसे यह बात कहकर में अपने घर पर चला गया और अपने सभी कामों को करने के बाद में एक बार फिर से भाभी के घर पर आ गया। फिर उसके बाद हम दोनों ने साथ में बैठकर नाश्ता किया और बातें हंसी मजाक करते करते दोबारा से फिर वही रात आ गयी। अब भाभी ने दोबारा मुझे पिछली रात की तरह अपने ही घर में सोने के लिए कहा और वो मुझसे बोली कि तुम्हे प्यास लेगे तो मेरे कमरे में आ जाना और वो चली गई। अब मुझे रात को नींद नहीं आई और पानी लेने के लिए दोबारा में पिछली रात की तरह उनके कमरे में चला गया और फिर से वही पुराना द्रश्य देखकर मेरी नियत खराब होने लगी थी।

दोस्तों मुझे अब भी भाभी की चुदाई करने का मन कर रहा था, लेकिन में आगे बढने की हिम्मत नहीं कर सका। फिर में दोबारा से उनको देखकर अपनी नियत को खराब करके कुछ देर देखकर वापस अपने कमरे में आ गया। फिर अगले दिन फिर वही रात आ गई, में पानी पीने के लिए उनके कमरे में गया, लेकिन दोस्तों इस बार द्रश्य कुछ और ही था, आज भाभी ने मेक्सी के अंदर ब्रा नहीं पहनी थी। उस वजह से उनका एक बूब्स बाहर आकर साफ दिख रहा था। अब मेरा लंड वो नजारा देखकर तनकर खड़ा हो गया और आज पहली बार मेरा लंड इतने जोश में था कुछ देर बाद में अपने कमरे में चला गया और अब मुझसे बिल्कुल भी रहा नहीं गया। फिर मैंने पहली बार जिंदगी में मुठ मारकर अपने लंड को शांत किया और में ना जाने कब वो बातें सोचकर सो गया। फिर अगले दिन वही रात आ गई और भाभी ने मुझसे मुस्कुराते हुए कहा कि तुम्हे अगर प्यास लेगे तो तुम मेरे कमरे में आ जाना और वो मेरी तरफ देखकर हंसती हुई चली गई। दोस्तों ना जाने क्यों मुझे इस बार उनका मेरी तरफ हंसकर देखना मुझसे यह बात बोलना सीधा मेरे दिल पर जा लगा और मुझे आगे बढ़ने की हिम्मत आ गई। फिर करीब आधे घंटे के बाद में उठकर उनके कमरे में चला गया। अब मैंने देखा कि आज तो कमरे के अंदर का नज़ारा कुछ और ही था और आज भाभी ब्रा और पेंटी में थी।

अब मुझसे वो मनमोहक द्रश्य देखकर बिल्कुल भी रहा नहीं गया। मैंने कम रौशनी का बल्ब चालू किया, उनका पूरा बदन उस लाल रौशनी में पूरी तरह से लाल हो गया। अब मुझसे रहा नहीं गया, मैंने आगे बढकर भाभी की गोरी भरी हुई जांघे छुकर महसूस किया, लेकिन भाभी की तरफ से बिल्कुल भी विरोध कोई भी हलचल ना देखकर मेरी हिम्मत अब ज्यादा बढ़ गई और इसलिए में कुछ देर बाद आगे बढकर उनके बूब्स को छूने लगा। फिर में बूब्स को छूने के साथ साथ अब धीरे धीरे दबाने भी लगा, लेकिन तब भी भाभी वैसे ही बिना किसी हलचल के चुपचाप पड़ी रही। अब में ज्यादा आगे बढ़ा इस बार मैंने उनकी पेंटी में अपना एक हाथ डाल दिया और अब मैंने उनकी चूत को छूकर महसूस किया वो मेरा पहला अनुभव था। दोस्तों उस समय में किसी के बूब्स, चूत या उसके बदन को पहली बार हाथ लगा रहा था और इसलिए में बहुत खुश होने के साथ अब बहुत गरम भी हो गया और तब मैंने महसूस किया कि उनकी चूत भी गरम होने के साथ गीली चिकनी मुझे महसूस हो रही थी, लेकिन में अब भी भाभी की चुदाई करने की हिम्मत नहीं कर पा रहा था और इसलिए मुझे अब ऐसा लगा कि अब आज के लिए बहुत हो गया और शायद में यहाँ पर ज्यादा देर तक रहा तो भाभी को मेरे इस काम के बारे में पता चल जाएगा।

फिर यह बात मन ही मन सोचकर में उनके पलंग से अपने कमरे की तरफ जाने के लिए उठा, लेकिन उसी समय अचानक से मैंने देखा कि भाभी ने मेरे हाथ को पकड़ लिए और वो बहुत ही धीमी आवाज़ में कहने लगी कि तुम मुझे इस तरह से गरम करके अब कहाँ जा रहे हो? अब मुझे ठंडा भी तो करो।

दोस्तों उनके मुहं से यह बात सुनकर अब तो मुझसे एक मिनट भी नहीं रुका गया और में सीधे ही भाभी के नरम गुलाबी होंठो को चूसने लगा। अब मेरा एक हाथ उनके बूब्स पर और एक हाथ उनकी गरम गीली चूत में था। में अपनी ऊँगली से उनकी चूत की गहराई को नाप रहा था। फिर भाभी भी जोश में आकर मेरे होंठो को चूसने लगी और उसी समय उन्होंने मेरी पेंट के अंदर अपना एक हाथ डालकर मेरा लंड पकड़ लिया जो कि अब पूरी तरह से उनकी चूत में जाकर उनकी मस्त जमकर चुदाई करने के लिए बड़ा बेचैन था। फिर मैंने ज्यादा देर ना करते हुए तुरंत भाभी की ब्रा-पेंटी और जल्दी से अपने कपड़े भी उतार दिए, जिसकी वजह से अब में और भाभी पूरी तरह से नंगे हो चुके थे। अब में दोबारा उनके बूब्स को चूसने लगा। उसके बाद में उनकी चूत को भी चाटने लगा और वो एकदम से तड़प उठी, में कुछ देर उनकी प्यासी चूत को चूसता चाटता रहा। अब उन्होंने मेरे लंड को अपने मुहं में ले लिया और वो भी मेरा लंड लोलीपोप की तरह चूसने लगी और कुछ देर बाद उन्होंने मुझसे मेरा लंड उनकी चूत में डालकर चुदाई करने का इशरा किया। फिर मैंने बहुत खुश होकर उनकी चूत में अपना लंड डाल दिया और फिर क्या था? मेरा लंड 6 इंच का है, मैंने ज़ोर ज़ोर से धक्के मार मारकर अपना पूरा लंड उनकी चूत में डाल दिया और में चुदाई करने लगा।

अब भाभी के मुहं से आह्ह्हह्ह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ हाँ थोड़ा और ज़ोर से करो आईईईई वाह मज़ा आ गया, जाने दो पूरा अंदर तक की आवाज़ निकल रही थी और वो मुझसे कहने लगी, मुझे तुम्हारी चुदाई अच्छी लगी, तुम्हारे भैया को तो मेरे लिए बिल्कुल भी समय नहीं मिलता वो अपने कामों में लगे रहते है और में हमेशा प्यासी अपनी चुदाई के लिए तरसती रहती हूँ उफफ्फ्फ्फ़ आज तुम मुझे पूरी तरह से खुश कर दो, आह्ह्हह्ह में मर गयी अह्ह्ह्हह्ह हाँ ज़ोर से चोदते रहो। फिर इतना कहकर वो अपनी गांड को उठाकर मेरे धक्कों का जवाब भी देने लगी और में उनका जोश देखकर बहुत खुश होकर लगातार धक्के देता रहा। अब मेरा पूरा लंड उनकी गीली चूत को चीरता हुआ उनकी बच्चेदानी को छू रहा था, वो सबसे अलग मज़ा कभी ना भूलने वाला एक अहसास था। दोस्तों अब मैंने भाभी से कहा कि भाभी मेरा वीर्य अब निकलने वाला है, बताओ में अब क्या करूं इसको कहाँ निकालूं? तब उन्होंने मुझसे कहा कि तुम मेरे मुहं में ही अपना वीर्य निकाल दो और फिर मैंने लंड को उनकी चूत से बाहर निकालकर उनके मुहं में दे दिया। फिर उन्होंने मेरा लंड चूसना शुरू किया कुछ सेकिंड के बाद मैंने अपना पूरा वीर्य उनके मुहं में निकाल दिया और वो मेरा सारा माल गटक गई, कुछ देर बाद हम दोनों थककर एक दूसरे से चिपककर ना जाने कब सो गए। दोस्तों हम दोनों ने जब तक मेरी भाभी नहीं आई तब तक हर दिन किसी भी समय बहुत जमकर सेक्स का पूरा पूरा मज़ा लिया और हर बार भाभी ने मेरा पूरा साथ भी दिया, क्योंकि वो मेरी चुदाई से बहुत संतुष्ट खुश थी और मुझे पहली बार किसी चूत की चुदाई करने का मौका मिल रहा था, इसलिए में उसका फायदा उठाता चला गया। फिर मेरी भाभी आ गई और हमारा चूत मारने का वो सिलसला वहीं पर खत्म हो गया, हमें ऐसा कोई भी मौका नहीं मिला जिसका हम फायदा उठाकर चुदाई के मज़े ले सकते और फिर कुछ दिनों के बाद मेरे भाई और उसके पति भी वापस आ गए, लेकिन अब हम पहले जैसे शांत हो चुके थे ताकि किसी को हमारे ऊपर कोई भी शक ना हो। फिर में कुछ दिन वहां पर रुककर अपने घर दिल्ली वापस आ गया, लेकिन आने से पहले मैंने सुजाता भाभी से मिलकर उनको अपना फोन नंबर दे दिया। दोस्तों वो मुझे आज भी अपना सबसे अच्छा दोस्त मानती है और हम दोनों एक दूसरे से अपनी सभी तरह की बातें किया करते है ।।

धन्यवाद …

Best Hindi sex stories © 2017
error:

Online porn video at mobile phone


bur chut chudaidesi behan ki chudaihot real story in hindimaa bete ki chudai hindi kahanibathroom sex storieschachi ko choda hindi storyaunty ki chut fadididi ki chut dekhibur chodne ki photoboor chudai ki storychote bhai ki wife ko chodachudai of bhabichudai photo kahanibhai ne chut maribf bhabhi ki chudailadki ki chudai kitej chudaimast mast chootchudai story in hindi fontbhabhi peeladki chodnasavita bhabhi ki chudai storynew sex chudaimaa sex story hindibhabhi ki chudai gandbua ko chodaindian choot chudaimeri choot ko chatoami ko chodabander se chudaischool me chudai hindishort adult stories in hindidesi sexy khanisex chudai ki storychut kisssexy chut storyachi kahaniyamaa ki chut hindi kahanisab ne chodadesi bhabhi ki chudai storybahan ki chut storyrandi ki group me chudainew bhabhi chudaimami ko kaise patayechachi ke chudai comnangi ladki sexsex gaandsage bhai bahan ki chudaiaunties chudai storychoot & landsex hindi onlineincest sexmuslim sex kahanikamukta com hindigujarati fucking storypapa beti ki chudaibur land chodaichudai ki kahani in hindi languageshadishuda didi ki chudaipark sex hindidasi saxyhindi desi kahanibhabhi ki moti gand maripriyanka ki gaandmeri choot marihindi kahani desichachi ko bus me chodamummy ko chodboobs pressing storiesgf sex with bfmausi ki chut fadisex stories in hindi with picsbabita ji chudaimaa ko naukar ne chodakahani meri chudaiwhat is chut in hindiaunty ko choda in hindinanga jismbest sex story hindidesi hindi saxwife chudai kahaniaunty ki chudai ki storiesdidi ki kahani hindisali ko choda jija neland chut ki khaniyaantarvasna story downloadhindi me sexyantarvasna incestnew bhabhi comchachi ke sath sex storysuhagrat meaning in hindisex story offlineindian eex storiesdevar bhabhi ki chudai photosax khaniyabeti ki gandapne maa ko chodagand chodmaa chudai ki story